Search
Close this search box.

US President Joe Biden will attend G7 Leaders summit in Hiroshima and in-person Quad Leaders Summit G-7 शिखर सम्मेलन में शिरकत करेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, क्वाड में पीएम मोदी से करेंगे मुलाका

Share this post

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन G-7 शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे। इसकी जानकारी व्हाइट हाउस ने दी है। 19-21 मई को जापान के हिरोशिमा में G-7 नेताओं की समिट होगी। वहीं, जो बाइडेन 24 मई को ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में ‘इन-पर्सन क्वाड लीडर्स समिट’ में हिस्सा लेंगे। यहां बाइडेन जापान के पीएम फुमियो किशिदा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ऑस्ट्रेलियाई पीएम एंथनी अल्बनीज से मिलेंगे। तीसरा ‘इन-पर्सन क्वाड लीडर्स समिट’ ऑस्ट्रेलियाई पीएम द्वारा आयोजित किया जा रहा है। 

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी क्वाड की बैठक के लिए चार दिवसीय ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जाएंगे। इस दौरान पीएम मोदी 23 मई को इंडियन डायस्पोरा के बड़े कम्यूनिटी इवेंट को सिडनी में संबोधित करेंगे। पीएम मोदी क्वाड की बैठक में भारत-प्रशांत क्षेत्र के विकास और पारस्परिक हित के समकालीन वैश्विक मुद्दों के बारे में विचारों का आदान-प्रदान करेंगे। क्वाड समिट में समुद्री क्षेत्र, अंतरिक्ष, जलवायु परिवर्तन, स्वास्थ्य और साइबर सुरक्षा में निरंतर सहयोग पर चर्चा होगी।

क्या है G-7 शिखर सम्मेलन? 

G-7 दुनिया की 7 सबसे बड़ी और विकसित अर्थव्‍यवस्‍था वाले देशों का ग्रुप है, इसलिए इसे G-7 समूह के नाम से भी जाना जाता है। इस समूह में जर्मनी, इटली, ब्र‍िटेन, अमेरिका, जापान, फ्रांस और कनाडा शामिल है। ये ऐसे देश हैं जो अपनी कम्‍यूनिटी वैल्‍यूज को मानते हैं। यानी ये देश स्‍वतंत्रता, मानवाधिकारों, लोकतंत्र और विकास के सिद्धांत पर चलते हैं।

क्या है G-7 का उद्देश्य?

हर साल यह ग्रुप शिखर सम्मेलन का आयोजन करता है। इस बैठक में मानव हितों से संबंधित मुद्दों पर चर्चा होती है। इस सम्मेलन में अलग-अलग वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करते हैं और उसका समाधान ढूंढने पर फोकस करते हैं। जैसे- जलवायु परिवर्तन, एनर्जी पॉलिसी आदि। यह ग्रुप 6 देशों का यानी G-6 था। इस ग्रुप का गठन साल 1975 में किया गया था। इस साल इसकी पहली बैठक आयोजित हुई थी। पहली बैठक में दुनिया भर में बढ़ रहे आर्थिक संकट और उसके समाधान पर बात की गई थी। 1976 में इस ग्रुप में कनाडा जुड़ा और इस तरह यह G-6 से G-7 में तब्दील हो गया। इस सम्‍मेलन में ग्रुप के 7 देशों के अलावा दूसरे देशों के प्रतिनिध‍ियों को भी आमंत्र‍ित किया जाता है। पिछले साल भारत से प्रधानमंत्री मोदी ने शिरकत की थी।

क्या है क्वाड का उद्देश्य?

क्वाड यानी क्वॉड्रिलैटरल सिक्योरिटी डायलॉग, यह भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया चार देशों का ग्रुप है। साल 2007 में जापान के तत्कालीन प्रधानमंत्री शिंजो आबे की पहल पर इस संगठन का गठन हुआ था। चीन के विरोध करने पर साल 2010 में ऑस्ट्रेलिया क्वाड से अलग हो गया था। साल 2017 में क्वाड गठबंधन को पुनर्जीवित किया गया और इसकी पहली आधिकारिक बैठक फिलीपींस में हुई। क्वाड का प्रमुख उद्देश्य हिंद-प्रशांत क्षेत्र के समुद्री रास्तों पर चीन के दबदबे को खत्म करना है।

Latest World News

Source link

Leave a Comment

ख़ास ख़बरें

विंध्याचल मंदिर से मुंडन संस्कार कराकर वापस जा रही बुलारो गाड़ी,खजुरी बाजार के पास खड़ी डंपर में जा भिड़ी, 10 लोग घायल

विंध्याचल मंदिर से मुंडन संस्कार कराकर वापस अपने घर तारुन जा रहे थे तभी खजुरी बाजार के पास खड़ी डंपर में टकरा गई…. भीटी अंबेडकर

Read More »

पुलिस आयुक्त, प्रयागराज द्वारा जनपद में VVIP आगमन, भ्रमण एवं जनसभा कार्यक्रम के दृष्टिगत दिए गए आवश्यक दिशा-निर्देश…..

  प्रयागराज मे पुलिस आयुक्त, प्रयागराज द्वारा जनपद में वीवीआईपी आगमन, भ्रमण एवं जनसभा कार्यक्रम के दृष्टिगत रिजर्व पुलिस लाइन सभागार में डी-ब्रीफिंग की गयी…..

Read More »

उत्तर मध्य रेलवे द्वारा,अनियमित यात्रा और स्टेशन परिसर/गाड़ी में गंदगी फ़ैलाने वाले 65 यात्रियों क़ो किया चालान

प्रयागराज से कानपुर सेन्ट्रल के मध्य 05 सुपरफास्ट गाड़ियों, 15483 अलीपुर द्वार-नई दिल्ली सिक्किम महानंदा एक्सप्रेस, 12311 हावड़ा-कोलकाता नेताजी सुपरफास्ट एक्सप्रेस, 12506 आनंद विहार टर्मिनल-कामाख्या

Read More »

ताजातरीन