Search
Close this search box.

Japan private company ispace spacecraft crashed while trying to land on the moon – जापान की निजी स्पेस कंपनी का अंतरिक्ष यान चांद पर क्रैश, लैंडिंग की कोशिश में हादसे का शिकार

Share this post

जापान की निजी स्पेस कंपनी ‘आईस्पेस’ के स्पेसक्राफ्ट का मॉडल- India TV Hindi
Image Source : CFP
जापान की निजी स्पेस कंपनी ‘आईस्पेस’ के स्पेसक्राफ्ट का मॉडल

जापान की एक कंपनी का अंतरिक्ष यान बुधवार को चंद्रमा पर उतरने की कोशिश के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हादसे के कारण यान से संपर्क टूट गया और उड़ान नियंत्रक यह पता लगाने की कोशिशों में जुटे हैं कि आखिर वहां हुआ क्या। संपर्क टूटने के छह घंटे से अधिक समय बाद तोक्यों की कंपनी ‘आईस्पेस’ ने उस बात की पुष्टि की, जिसका सभी को संदेह था। कंपनी ने कहा कि ऐसी ‘‘उच्च संभावना’’ है कि यान चंद्रमा की सतह पर उतरने की कोशिश करते समय दुर्घटनाग्रस्त हो गया। यह ‘आईस्पेस’ के लिए बेहद निराशाजनक है, क्योंकि वह करीब साढ़े चार महीने से इस मिशन पर काम कर रहा था, जिसका मकसद चंद्रमा की सतह पर एक अंतरिक्ष यान को सफलतापूर्वक उतारना था। ऐसा अभी तक केवल तीन देश ही कर पाए हैं। 

चंद्रमा की सतह पर उतरे समय दुर्घटना

‘आईस्पेस’ के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) ताकेशी हकमादा को यान से संपर्क टूट जाने के बाद भी उसके चंद्रमा पर सुरक्षित रूप से उतर जाने की उम्मीद थी। हकमादा जब अंतरिक्ष यान के चंद्रमा पर उतरने की कोशिश के दौरान दुर्घटनाग्रस्त होने की घोषणा कर रहे थे, तब वह और उनके सहकर्मी काफी गमगीन नजर आए। एक आधिकारिक बयान में कहा गया है, ‘‘यह माना जा रहा है कि यान चंद्रमा की सतह पर उतरे समय दुर्घटनाग्रस्त हो गया।’’ अगर यह मिशन सफल होता तो ‘आइस्पेस’ चंद्रमा की सतह पर अंतरिक्ष यान उतारने वाली पहली निजी कंपनी बन जाती। हालांकि, हकमादा ने फिर कोशिश करने का संकल्प किया और कहा कि अगले साल एक यान को चंद्रमा की सतह पर भेजने की दिशा में पहले से ही काम शुरू कर दिया गया है। 

भारत जल्द ही करने वाला है चंद्रयान-3 का प्रक्षेपण
गौरतलब है कि अभी तक केवल रूस, अमेरिका और चीन की आधिकारिक अंतरिक्ष एजेंसी के यान ही चंद्रमा की सतह पर सफलतापूर्वक उतर पाए हैं। इज़राइल की एक गैर-लाभकारी संस्था ने 2019 में चंद्रमा की सतह पर एक यान उतारने की कोशिश की थी, लेकिन उसे कामयाबी नहीं मिल पाई थी। वहीं इस दिशा में भारत भी अपने कदम बढ़ा रहा है। भारतीय स्पेस एजेंसी ISRO अपने अगले मून मिशन के तहत चंद्रयान-3 के परीक्षणों में लगी हुई है। ये भारत का तीसरा मून मिशन है। इस अभियान का मकसद चंद्रमा की सतह पर सुरक्षित लैंडिंग और रोवर के घूम-घूमकर नमूने जुटाने की क्षमता प्रदर्शित करना है। इसरो इसे जून में प्रक्षेपित करने की योजना बना रहा है। चंद्रयान-3 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च व्हीकल मार्क-3 (एलवीएम-3) के जरिये चंद्रमा की ओर रवाना किया जाएगा

ये भी पढ़ें-

डीएम की हत्या के दोषी बाहुबली आनंद मोहन की रिहाई के खिलाफ उतरा IAS एसोसिएशन, बिहार सरकार से कही ये बात

अमेरिकी इतिहास के सबसे बुजुर्ग राष्ट्रपति हैं जो बाइडेन, 2024 के चुनाव में फिर रेस लगाने का किया ऐलान
 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Source link

Leave a Comment

ख़ास ख़बरें

विंध्याचल मंदिर से मुंडन संस्कार कराकर वापस जा रही बुलारो गाड़ी,खजुरी बाजार के पास खड़ी डंपर में जा भिड़ी, 10 लोग घायल

विंध्याचल मंदिर से मुंडन संस्कार कराकर वापस अपने घर तारुन जा रहे थे तभी खजुरी बाजार के पास खड़ी डंपर में टकरा गई…. भीटी अंबेडकर

Read More »

पुलिस आयुक्त, प्रयागराज द्वारा जनपद में VVIP आगमन, भ्रमण एवं जनसभा कार्यक्रम के दृष्टिगत दिए गए आवश्यक दिशा-निर्देश…..

  प्रयागराज मे पुलिस आयुक्त, प्रयागराज द्वारा जनपद में वीवीआईपी आगमन, भ्रमण एवं जनसभा कार्यक्रम के दृष्टिगत रिजर्व पुलिस लाइन सभागार में डी-ब्रीफिंग की गयी…..

Read More »

उत्तर मध्य रेलवे द्वारा,अनियमित यात्रा और स्टेशन परिसर/गाड़ी में गंदगी फ़ैलाने वाले 65 यात्रियों क़ो किया चालान

प्रयागराज से कानपुर सेन्ट्रल के मध्य 05 सुपरफास्ट गाड़ियों, 15483 अलीपुर द्वार-नई दिल्ली सिक्किम महानंदा एक्सप्रेस, 12311 हावड़ा-कोलकाता नेताजी सुपरफास्ट एक्सप्रेस, 12506 आनंद विहार टर्मिनल-कामाख्या

Read More »

ताजातरीन